Your are here Home » Loans » MBGB- EGG SUFFICIENCY PROGRAM
  
  HOUSING LOAN
  CAR/ AUTO LOAN
  Education Loan
  SME Loan
  Personal Loan
  PMMY
  FARM MECHANISATION
  Horticulture & Floriculture
  Kisan Credit Card (KCC)
  SOLAR ENERGY SCHEME
  DAIRY LOAN
  FISHERY LOAN
  SWAROZGAR YOJANA
  POULTRY FARMING LOAN
  SHG Combo Form
  Stand Up India Loan
  MBGB- EGG SUFFICIENCY PROGRAM
  MBGB - BSCC SCHEME
  MBGB- Fishery Scheme
Enquiry Now
 
MBGB- EGG SUFFICIENCY PROGRAM

अंडा उत्पादन हेतु कुक्कुट पालन योजना

 

हमारे बैंक एवं बिहार विद्यापीठ उद्भवन एवं उद्यमिता केंद्र, पटना द्वारा बिहार को अंडा उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाने हेतु अंडा उत्पादकों के उधमिता का एक अभियान शुरू किया गया है जिसकी मुख्य विशेषताएँ निम्न है ;

  • यह योजना न्यूनतम  5000 अंडा उत्पादन इकाई के लिए है |
  • सभी सेवानिवृत जवान, प्रगतिशील किसान, उद्यमी इस योजना के अंतर्गत बैंक से ऋण प्राप्त कर सकते है |
  • न्यूनतम 8 -10 हजार वर्गफीट जमीन उपलब्ध हो जोकि पक्के सड़क मार्ग आवश्यक रूप से जुडी हो |
  • कुल परियोजना लागत राशि रु. 40 लाख |
  • आवेदक के पास रु 10 लाख की राशि मार्जिन के रूप में उपलब्ध हो |
  • ऋण राशि - परियोजना राशि के 75 प्रतिशत तक मियादी ऋण एवं कार्यशील पूंजी के रूप में |
  • प्रतिभूति – प्राथमिक - उस भूमि का बंधक जिसपर आधार संरचना का निर्माण होगा |

         संपार्श्विक - FDR (अपने बैंक का)/ NSC/ KVP/ LIC पॉलिसी का surrender value/        

                   जमीन/मकान (गैर कृषि) का बंधक जिससे पूर्ण ऋण राशि सुरक्षित हो जाए।

                                                        या

                   प्राथमिक प्रतिभूति गैर कृषि भूमि होने की स्थिति में अगर उसका बाज़ार   

                   मूल्य ऋण राशि का 200 प्रतिशत है तों किसी अन्य प्रकार कीसंपार्श्विक  

                   प्रतिभूति की मांग नहीं की जाएगी |

  • पुनर्भुगतान - क) आवधिक ऋण- नकद प्रवाह के अनुरूप, प्रथम किश्त संवितरण से अनुग्रह अवधि

               (Gestation Period) सहित अधिकतम 7 वर्ष में।

                   ख) नकद उधार ऋण- मांग पर ।

  • अनुग्रह अवधि – अधिकतम 9 माह |
  • बीमा - लाभान्वितों के खर्च एवं जिम्मेदारी पर बैंक ऋण से क्रय की गई परिसंपत्तियों का बीमा |
    • जहाँ परियोजना नकद उधार और आवधिक ऋण दोनों के लिए स्वीकृत की जाती है वहां पहले आवधिक ऋण का वितरण किश्तों में किया जाएगा एवं कार्य पूर्ण कर लिए जाने के सत्यापन के बाद ही कार्यशील पूँजी हेतु नकद उधार खाता से वितरण किया जाएगा।
    • अन्य महत्वपूर्ण तथ्य –

 बिहार विद्यापीठ उद्भवन एवं उद्यमिता केंद्र द्वारा ऋणी को निम्नलिखित सुविधाएँ उपलब्ध कराई जाएंगी :

  • परियोजना-रिपोर्ट तैयार करने में सहायता, तकनीकी मार्गदर्शन, आतंरिक व बाह्य सहायता|
  • उद्यमियों को बाजार की सुगम उपलब्धता हेतु अंडा-व्यवसायियों की सूचि उपलब्ध कराना
  • उचित फार्म – प्रबंधन एवं व्यवसाय - वृद्धि  हेतु स्टाफ एवं उद्यमियों को प्रशिक्षण प्रदान करना |
  • चूजों का बीमा, चारा-प्रबंधन, फार्म-शेड एवं फार्म संयत्रों के रख - रखाव में सहयोग |
  • उद्यम के सम्यक् रख-रखाव एवं मार्गदर्शन को सुनिश्चित करने हेतु 3 वर्षों की सदस्यता प्रदान की जाएगी |

*****

 

अधिक जानकारी के लिए मध्य बिहार ग्रामीण बैंक की शाखा से संपर्क करें |